Wednesday , October 28 2020

27 ਸਾਲਾਂ ਤੋਂ ਇਸ ਪਿੰਡ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਆਇਆ ਕੋਈ ਵੀ “ਮਰਦ” ,  ਫਿਰ ਵੀ ਪ੍ਰੇਗਨੇਂਟ ਹੋ ਰਹੀਆਂ ਔਰਤਾਂ ਜਾਨੋ ਕਿਵੇਂ !

27 ਸਾਲਾਂ ਤੋਂ ਇਸ ਪਿੰਡ ਵਿੱਚ ਨਹੀਂ ਆਇਆ ਕੋਈ ਵੀ “ਮਰਦ” ,  ਫਿਰ ਵੀ ਪ੍ਰੇਗਨੇਂਟ ਹੋ ਰਹੀਆਂ ਔਰਤਾਂ ਜਾਨੋ ਕਿਵੇਂ !

भारत में हर गाँव की अपनी एक कहानी होती है ओए लग ही प्रथा भी होती है. आज हम आपको एक गाँव की रहस्यमयी कहानी के बारे में बता रहे हैं जिसे सुनकर आप हैरान हो जायेंगे. दरअसल इस गाँव में महिलाएं बिना मर्द के प्रेग्नेंट होती हैं, जी हाँ! सही सुना आपने. ये एक ऐसा गाँव है जहाँ 27 सालों से कोई मर्द नहीं आया फिर भी इस गाँव की महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती हैं. चलिए आपको बताते हैं की आखिर ऐसा क्यों होता है, क्या है इसके पीछे की वजह.

कांटों की फेंसिग से घिरा केन्या के समबुरू का उमोजा गांव दुनिया का सबसे अनोखा गाँव है जहाँ मर्दों का आना मना है. आपकों बता दें इस गाँव में सिर्फ महिलाएं रहती हैं. अब आप सोच रहे होंगे की जिस गाँव में सिर्फ महिलाएं रहती है और जहाँ मर्दों की एंट्री बंद हो उस गाँव में महिलाएं प्रेग्नेंट कैसे हो सकती हैं. करीब 27 साल से इस गाँव में कोई मर्द नहीं आया फिर भी यहाँ महिलाएं बच्चों को जन्म देती हैं. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ ,ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ .

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस गाँव को 1990 में 15 ऐसी महिलाओं के लिए बनाया गया था जिनका ब्रिटिश जवानों ने रेप किया था. ये गाँव पुरूषों की हिंसा का शिकार हुई महिलाओं का ठिकाना है. इस गाँव में महिलाओं का राज चलता है. चलिए आपको बताते हैं गाँव में बिना मर्द के कैसे यहाँ की महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती हैं.

ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ ,ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ .

दरअसल इस गाँव की महिलाएं रात को चोरी छुपे गाँव के बाहर जाती हैं ओए अपने पसंद के मर्द के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाती हैं जिस वजह से ये प्रेग्नेंट हो जाती हैं. इस तरह वो अपना वंश भी चला रही हैं और शरीरिक सुख भी पा रही हैं.
ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ ,ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ .

इस गांव में इस वक्त करीब 250 महिलाएं और बच्चे रह रहे हैं. इस गाँव की महिलाएं पारंपरिक ज्वैलरी बनाकर बेचती हैं और सामबुरू नेशनल पार्क घूमने आने वाले टूरिस्ट्स को अपना गांव दिखाती हैं जिससे वो पैसा कमाती हैं. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ ,ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ .