Friday , October 23 2020

ਨਸ਼ੇ ਚ ਪਿਤਾ ਨੇ ਧੀ ਨਾਲ ਕੀਤਾ ਗੰਦਾ ਕੰਮ ਫਿਰ ਧੀ ਨੇ ਜੋ ਕੀਤਾ ਜਾਣਕੇ ਹੋਸ਼ ਉਡ ਜਾਣਗੇ ……

कहते है इंसान जब शराब के नशे में हो तो उसे अपने और गैरों की पहचान नहीं रहती और ना ही सही और बुरे की विवेक रहता है… कुछ ऐसा ही हुआ यूपी के संभल जिले के धनारी गांव में। यहां कलियुगी पिता ने शराब पीकर अपनी बेटी की पहचान भूल गया और सारी हदें पार करते हुए जब सब लोग सो गए तो उसने सगी बेटी को पकड़ लिया और दुष्कर्म कर डाला। बदहवास बेटी रात दुष्कर्म के बाद रात भर यही सोच कर सो नहीं सकी की वो दुष्कर्मी पिता के साथ कैसे रहेगी। इसी बात को सोच कर बेटी ने डंडे से पिता को तब तक पीटा जब तक उसकी मौत नहीं हो गई।

मर्दानी है वो जिसने दुष्कर्मी पिता की हत्या कर दी

अपनी सुरक्षा खुद करने के लिए महिलाओं का जागरुक किया जा रहा है। जिससे अगर कोई उनके साथ छेड़खानी करता है तो उसका विरोध कर सकें लेकिन धनारी के एक छोटे से गांव में रहने वाली शराबी की बेटी भी मर्दानी निकली। अपनी इज्जत को लूटते देख वह अपने आप को रोक नहीं पाई। भले ही दुष्कर्मी उसका पिता हो लेकिन वह यह भूल गई कि जिसे मैं मार रही हूं वह मेरा पिता है। उसे सिर्फ यह याद था कि जिसे मैं मार रही हूं वह दुष्कर्मी है और उसने मेरे साथ दुष्कर्म किया है।

दुष्कर्मी पिता ने ऐसा कोई काम नहीं छोड़ा जिससे कलियुगी पिता न कहा जाए। वह दुष्कर्मी ही नहीं बल्कि हत्यारा भी था। सात वर्ष पहले उसने अपनी पत्नी की हत्या कर दी थी। अभी मामले को सात वर्ष ही हुए हैं कि अब बेटी के साथ दुष्कर्म कर दिया। सात वर्ष पहले मृतक पिता शाम को शराब पीकर घर आया था, जिसके बाद पत्नी से किसी बात को लेकर विवाद हो गया था। विवाद के बाद पिता ने पत्नी की ही हत्या कर दी। हत्या के बाद वह जेल भी गया।

बेटे ने नहीं दिया बाप को कंधा

दुष्कर्मी पिता को बेटे ने भी कंधा देने से इनकार कर दिया। वहीं बेटी के साथ दुष्कर्म करने वाले दुष्कर्मी को देखने के लिए गांव कोई सदस्य नहीं पहुंचा। वहीं आरोपी के ससुर ने अपना धर्म निभाने के लिए मौके पर पहुंच गए और शव का अंतिम संस्कार किया। इतना ही नहीं गांव का कोई भी आदमी दुष्कर्मी के शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए नहीं गया।

बेटी की तहरीर पर पुलिस ने दुष्कर्म करने वाले पिता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है जबकि बेटी के खिलाफ पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की है। धनारी में दुष्कर्म करने वाले पिता के खिलाफ पुलिस को तहरीर देकर बेटी ने कहा कि मेरा पिता ही शराब के नशे में मेरी साथ दुष्कर्म कर रहा था। मैंने अपने आप को बचाने के लिए डंडा मारा तो उसकी मौत हो गई।

जिसने भी सुना उसके मुंह से यहीं निकला ऐसा पिता तो आज तक नहीं देखा। सभी लोग यही कह रहे थे कि उस बेटी ने बहुत ही अच्छा किया जिसने उस दुष्कर्मी पिता को मार डाला। इस हालात में जो भी होता वह उसे मार ही देता। जबकि कुछ कह रहे थे कि अगर गांव शराब न बनाई जाती तो ऐसा न होता।