Friday , October 30 2020

ਚੋਰੀ ਕਰਨ ਦੇ ਸ਼ੱਕ ਚ ਭੀੜ ਨੇ ਗਰੀਬ ਮਾਰ ‘ਤਾ-ਨਾਲ ਲੈਂਦੇ ਰਹੇ ਸੈਲਫੀਆਂ

ਚੋਰੀ ਕਰਨ ਦੇ ਸ਼ੱਕ ਚ ਭੀੜ ਨੇ ਗਰੀਬ ਮਾਰ ‘ਤਾ-ਨਾਲ ਲੈਂਦੇ ਰਹੇ ਸੈਲਫੀਆਂ

ਇਨਸਾਨੀਅਤ ਸਿਰਫ ਇਨਸਾਨਾਂ ਚ ਹੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ,ਕਿਉਂਕਿ ਇਹ ਸ਼ਬਦ ਇਨਸਾਨ ਤੋਂ ਬਣਿਆ ਹੈ। ਪਰ ਜਦੋਂ ਇਨਸਾਨ ਚੋਂ ਇਨਸਾਨੀਅਤ ਖਤਮ ਹੋ ਜਾਵੇ ਤਾਂ ਫਿਰ ਉਹ ਇਨਸਾਨ ਕਹਾਉਣ ਦਾ ਹੱਕਦਾਰ ਵੀ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ। ਕੇਰਲਾ ਤੋਂ ਇੱਕ ਅਜਿਹਾ ਮਾਮਲਾ ਸਾਹਮਣੇ ਆਇਆ ਹੈ ਜਿਥੇ ਭੀੜ ਨੇ ਚੋਰੀ ਦੇ ਸ਼ੱਕ ਚ ਇੱਕ ਗਰੀਬ ਨੂੰ ਕੁੱਟ ਕੁੱਟਕੇ ਮਾਰ ਦਿੱਤਾ। ਇਹਨਾਂ ਹੀ ਨਹੀਂ ਮਗਰੋਂ ਭੀੜ ਉਸਦੀ ਲਾਸ਼ ਨਾਲ ਸੈਲਫੀਆਂ ਲੈਂਦੀ ਰਹੀ। ਇਨਸਾਨੀਅਤ ਨੂੰ ਸ਼ਰਮਸਾਰ ਕਰਦੀ ਇਹ ਘਟਨਾ ਸਾਡੇ ਇਨਸਾਨ ਹੋਣ ਤੇ ਸ਼ੱਕ ਪੈਦਾ ਕਰਦੀ ਹੈ। केरल के पलक्कड़ जिले में एक आदिवासी पुरुष की भीड़ द्वारा हत्या का मामला सामने आया है वहां एक आदिवासी युवक की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। इस दौरान भीड़ उसके साथ सेल्फी लेती रही, बाद में गंभीर रूप से घायल युवक को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां पहुंचने से पहले भी युवक की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि भीड़ ने चोरी के शक में युवक को पीटा था। पुलिस ने बताया कि स्थानीय लोगों ने आदिवासी व्यक्ति के हाथ-पैर बांधकर बुरी तरह मारा-पीटा। इससे उसकी मौत हो गई।

लोगों ने मारने से पहले आदिवासी को बंधक बनाकर सेल्फी क्लिक कर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट की। पुलिस ने मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है और पांच अन्य लोगों को हिरासत में लिया है। जानकारी के मुताबिक, केरल के कडूकुम्न्ना निवासी 27 वर्षीय आदिवासी युवक ए.मधु को कुछ लोगों ने गुरुवार शाम को जंगल से पकड़ा था।वे उसे पीटते हुए बाहर लाए और उसे रस्सियों से बांध दिया। भीड़ ने आरोप लगाया कि, तीन दिन पहले एक शख्स के यहां से सामान चोरी हुआ था, उन्होंने ए.मधु पर इस चोरी को करने का आरोप लगाया।लोग पिटाई के साथ साथ उसके साथ सेल्फी भी लेते रहे-भीड़ ने रस्सियों से बंदे ए.मधु पर लात-घूंसे बरसाने के साथ ही उसे डंडों से भी पीटा, इस दौरान लोग उसके साथ सेल्फी लेते रहे। बाद में घटना की सूचना मिलने पर आगली पुलिस मौके पर पहुंची। अगाली के डीएसपी टी के सुब्रमणियम ने बतायास, ‘मधु को स्थानीय लोग जंगली इलाके से मुक्काली लेकर आए थे।वहां उसे स्थानीय लोगों ने बुरी तरह मारा-पीटा और अधमरा करके पुलिस के हवाले कर दिया। जब पुलिस उसे अस्पताल लेकर गई तो डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।’ डीएसपी ने बताया कि मृतक मानसिक रूप से बीमार था वह दिन में जंगल में रहता था और रात को मुक्काली और थवालम कस्बों में कथित रूप से दुकानों से सामान चुराता था। मामले की जांच की जा रही है।