ਹਰ ਪਤਨੀ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਨੂੰ ਇਹ 2 ਗੱਲਾਂ ਕਦੇ ਸੱਚ ਨਹੀਂ ਦੱਸਦੀ , ਚਾਹੇ ਅੱਜ ਹੀ ਅਜਮਾ ਲਵੋ

ਹਰ ਪਤਨੀ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਨੂੰ ਇਹ 2 ਗੱਲਾਂ ਕਦੇ ਸੱਚ ਨਹੀਂ ਦੱਸਦੀ , ਚਾਹੇ ਅੱਜ ਹੀ ਅਜਮਾ ਲਵੋ

जैसा कि हम सभी जानते ही हैं कि पति और पत्नी का रिश्ता सबसे अनमोल होता है. हर पति और पत्नी के रिश्ते की बुनियाद सच्चाई और इमानदारी पर टिकी होती है. ऐसे में दोनों एक दुसरे के प्रति वाफादार तभी माने जाते हैं, जब दोनों अपने रिश्ते में सच्च का साथ देते हैं. एक तरह से यूँ कह लीजिये कि पति और पत्नी के रिश्ते की डोर बेहद नाज़ुक होती है जिसमे अगर एक बार गाँठ पड़ जाए तो वह गाँठ पूरी उम्र नहीं मिटाई जा सकती. ऐसे में कईं बार ना चाहते हुए पत्नियाँ अपने पति से कुछ सच छिपा कर रखती हैं. क्यूंकि, उनका बोला गया एक झूठ भी उनके रिश्ते को मजबूत बनाने में हमेशा उनका साथ देता है.

अक्सर पति सोचते हैं कि उनकी पत्नियां उनसे चाह कर भी कोई झूठ नहीं बोल सकती. उनका ये अँधा विश्वास एक तरह से ठीक भी है. लेकिन, वह इस बात से अनजान रहते हैं कि जिन्हें वह सच्चाई की देवी मानते हैं, वो अपने अंदर जाने कितने झूठ को बोझ लिए जीती हैं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको पत्नियों के दो ऐसे झूठ बताने जा रहे हैं, जिन्हें वह अपने पतियों से हमेशा छिपा का रखती हैं…


हमारे भारत देश में हर पति अपने पूरे महीने की तनख्वाह को अपनी पत्नी के हाथों में रख देता है ताकि वह घर का खर्च चला सकें. परंतु, आपको ये जानकर हैरानी होगी कि पत्नियाँ अक्सर अपने पति से छिप के कुछ पैसा बचा कर रखती हैं. वह उन पैसों को शौपिंग पर खर्च करती हों, ये जरूरी नहीं है. बल्कि, कुछ पत्नियाँ काफी समझदार होती हैं. इसलिए अक्सर वह बचाए हुए पैसों को बैंक में मुसीबत के समय के लिए संभाल कर रखती हैं या फिर वह उन रुपयों से अपने बच्चों की और घर की जरूरत पूरी करने का सामान खरीद लाती हैं. इसलिए कोई भी पत्नी अपने पति को महीने के आखिर में बचे हुए पैसों का हिसाब कभी सही नहीं बताती.

हमारे भारत देश की औरतें  बाकी अन्य देशों के मुकाबले काफी समझदार हैं. हर मुश्किल से मुश्किल समस्या को कैसे सुलझाना है, ये उन्हें बाखूबी आता है. भले बात उनके बच्चों पर आये या फिर उनके परिवार पर, वह बिना उफ़ किए हर दर्द सह लेती हैं. मर्दों की ये आदत होती है कि वह अपनी हर परेशानी घर में चिल्ला कर या हल्ला बोल कर बयान कर देते हैं. जबकि, औरतें अपने परिवार और बच्चों से जुडी समस्यायों को अकेले हैंडल कर लेती हैं.
औरतों के अनुसार वह आपनी परेशानियाँ पतियों से इसलिए छिपाती हैं, ताकि उनके पति उन्हें भूल से भी गलत न समझ लें. इसलिए ना चाहते हुए भी घर की औरतें अपने पति से परिवार की छोटी मोटी समस्याएं शेयर करने से हिचकिचाती हैं.