ਜਾਣੋ ਵਿਆਹ ਤੋਂ ਬਾਦ ਔਰਤਾਂ ਦੇ ਹਿਪਸ ਕਿਓਂ ਫੁਲਣ ਲਗਦੇ ਹਨ ਦੇਖੋ …..

ਜਾਣੋ ਵਿਆਹ ਤੋਂ ਬਾਦ ਔਰਤਾਂ ਦੇ ਹਿਪਸ ਕਿਓਂ ਫੁਲਣ ਲਗਦੇ ਹਨ ਦੇਖੋ। ….

आप सभी ने कसार देखा होगा की लड़किया शादी या फिर रिलेशनशिप के बाद में उनके शरीर में काफी बदलाव आने लग जाता हैं और उनके हिप्स फूलने लग जाते हैं ।ये सब देख कर हर लड़के के मन में एक ही सवाल आता हैं की आखिर क्यों शादी या रिलेशन के बाद लड़कियों के हिप्स फूलने लगा जाते हैं ।

यदि आपके मन में भी यही सवाल चल रहा है तो अब आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है, इस सवाल का आपको जवाब हमारी इस खबर में मिल जाएगा। एक सर्वे में इसका खुलासा हो गया है। इस सर्वे के लिए महिलाओ का हिप्स के सबसे बड़े भाग और कमर के सबसे पतले हिस्से को मापा गया था। यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स के शोध्कर्ताओ ने इस सर्वे में पाया की जिन महिलाओ ने कई बार वन नाइट स्टैंड किए थे उनके हिप्स आम महीअलो की तुलना में काफी बड़े थे।

एक सर्वे के बाद ये पाया गया हैं की महिलाओ के जिन महिलाओ के सेक्सुअल पार्टनर लगातार बदलते रहते है ऐसे महिलाओ के बाकी महिलाओ की तुलना में हिप्स 2 सेंटीमीटर यानी 0।8 इंच ज्यादा बड़े थे।

18 से 26 साल की 148 महिलाओ को लेकर किये गए इस रिसर्च के मुख्य शोध्कर्ता प्रोफेसर कोलिन के मुताबिक जिन महलओ के बाकी महिलाओ की तुलना में बड़े हिप्स होते है उन्हें बच्चे को जन्म देने में काफी आसानी होती है। प्रोफ़ेसर की माने तो बड़े हिप्स वाली महिलाये बिना किसी खास परेशानी के बच्चे को जन्म दे सकती है ।

जबकि इसकी तुलना में छोटे हिप्स वाली महिलाओ को बच्चे पैदा करने में बेहद ही दर्द का सामना करना पड़ता है। शायद यही कारण है जब कोई महिला किसी पुरष के साथ सम्बन्ध बनाने लग जाती है तो उसके हिप्स का अकार धीरे धीरे बढ़ने लग जाता है।

ਜਾਣੋ ਵਿਆਹ ਤੋਂ ਬਾਦ ਔਰਤਾਂ ਦੇ ਹਿਪਸ ਕਿਓਂ ਫੁਲਣ ਲਗਦੇ ਹਨ ਦੇਖੋ ….

ਜਾਣੋ ਵਿਆਹ ਤੋਂ ਬਾਦ ਔਰਤਾਂ ਦੇ ਹਿਪਸ ਕਿਓਂ ਫੁਲਣ ਲਗਦੇ ਹਨ ਦੇਖੋ। ….

आप सभी ने कसार देखा होगा की लड़किया शादी या फिर रिलेशनशिप के बाद में उनके शरीर में काफी बदलाव आने लग जाता हैं और उनके हिप्स फूलने लग जाते हैं ।ये सब देख कर हर लड़के के मन में एक ही सवाल आता हैं की आखिर क्यों शादी या रिलेशन के बाद लड़कियों के हिप्स फूलने लगा जाते हैं ।

यदि आपके मन में भी यही सवाल चल रहा है तो अब आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है, इस सवाल का आपको जवाब हमारी इस खबर में मिल जाएगा। एक सर्वे में इसका खुलासा हो गया है। इस सर्वे के लिए महिलाओ का हिप्स के सबसे बड़े भाग और कमर के सबसे पतले हिस्से को मापा गया था। यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स के शोध्कर्ताओ ने इस सर्वे में पाया की जिन महिलाओ ने कई बार वन नाइट स्टैंड किए थे उनके हिप्स आम महीअलो की तुलना में काफी बड़े थे।

एक सर्वे के बाद ये पाया गया हैं की महिलाओ के जिन महिलाओ के सेक्सुअल पार्टनर लगातार बदलते रहते है ऐसे महिलाओ के बाकी महिलाओ की तुलना में हिप्स 2 सेंटीमीटर यानी 0।8 इंच ज्यादा बड़े थे।

18 से 26 साल की 148 महिलाओ को लेकर किये गए इस रिसर्च के मुख्य शोध्कर्ता प्रोफेसर कोलिन के मुताबिक जिन महलओ के बाकी महिलाओ की तुलना में बड़े हिप्स होते है उन्हें बच्चे को जन्म देने में काफी आसानी होती है। प्रोफ़ेसर की माने तो बड़े हिप्स वाली महिलाये बिना किसी खास परेशानी के बच्चे को जन्म दे सकती है ।

जबकि इसकी तुलना में छोटे हिप्स वाली महिलाओ को बच्चे पैदा करने में बेहद ही दर्द का सामना करना पड़ता है। शायद यही कारण है जब कोई महिला किसी पुरष के साथ सम्बन्ध बनाने लग जाती है तो उसके हिप्स का अकार धीरे धीरे बढ़ने लग जाता है।

ਦੇਖੋ ਕਿਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਨਾਮ ਤਾਂ ਨੀ ਇਸ ਅੱਖਰ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੁੰਦਾ, ਜੇ ਹੁੰਦਾ ਤਾਂ ਪੜੋ ਇਹ ਵੱਡਾ ਖੁਲਾਸਾ !

ਦੇਖੋ ਕਿਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਨਾਮ ਤਾਂ ਨੀ ਇਸ ਅੱਖਰ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੁੰਦਾ, ਜੇ ਹੁੰਦਾ ਤਾਂ ਪੜੋ ਇਹ ਵੱਡਾ ਖੁਲਾਸਾ !

मनुष्य का स्वभाव बहुत सी बातों पर निर्भर करता है. जब भी हम किसी इंसान से पहली बार मिलते हैं, तो उस इंसान के बात करने के तरीके से हमें पता चल जाता है कि उसका स्वभाव दूसरे लोगों के साथ कैसा होगा, लेकिन बहुत से ऐसे तरीके भी होते हैं जिनसे उस व्यक्ति के स्वभाव के अलावा ओर भी बहुत कुछ पता लगाया जा सकता है.

आपको ये बात जानकर जरुर हैरानी होगी कि इंसान के नाम के पहले अक्षर से उसके स्वभाव के बारे में बहुत कुछ पता लगाया जा सकता है. आज हम जिस अक्षर के बारे में बता रहे हैं, वो हैं S. S अक्षर अग्रेज़ी अल्फाबेट के 19वें नंबर पर आता है. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

ऐसा कहा जाता है कि इस अक्षर वाले लोग बहुत ज्यादा मेहनती होते हैं. ऐसे लोग अपने लक्ष्य को पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं. S अक्षर वाले लोग कड़ी मेहनत और लगन के बलबूते ही अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं. इन्हें किसी का भी एहसान लेना पसंद नहीं होता. इन लोगों को जिस भी जगह से ज्ञान मिलता है ये ले लेते हैं. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

S अक्षर वाले लोग दिखने में बेहद खूबसूरत और आकर्षक भी होते हैं. ये हर किसी के बीच अपनी पहचान आसानी से बना लेते हैं. वैसे तो इन लोगों का स्वभाव बहुत शांत होता है, लेकिन जब इन्हें गुस्सा आता है, तो वो किसी को भी नहीं छोड़ते. बात की जाए इनके प्रेम संबंधो के बारे में तो S अक्षर वाले लोग अपने साथी के लिए पूरी तरह से वफादार होते हैं. ये अपने पार्टनर को किसी दूसरे के साथ देखकर गुस्से में कोई भी बड़ा कदम उठाने से पहले बिलकुल भी नहीं सोचते. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

ਦੇਖੋ ਕਿਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਨਾਮ ਤਾਂ ਨੀ ਇਸ ਅੱਖਰ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੁੰਦਾ, ਜੇ ਹੁੰਦਾ ਤਾਂ ਪੜੋ ਇਹ ਵੱਡਾ ਖੁਲਾਸਾ !

ਦੇਖੋ ਕਿਤੇ ਤੁਹਾਡਾ ਨਾਮ ਤਾਂ ਨੀ ਇਸ ਅੱਖਰ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੁੰਦਾ, ਜੇ ਹੁੰਦਾ ਤਾਂ ਪੜੋ ਇਹ ਵੱਡਾ ਖੁਲਾਸਾ !

मनुष्य का स्वभाव बहुत सी बातों पर निर्भर करता है. जब भी हम किसी इंसान से पहली बार मिलते हैं, तो उस इंसान के बात करने के तरीके से हमें पता चल जाता है कि उसका स्वभाव दूसरे लोगों के साथ कैसा होगा, लेकिन बहुत से ऐसे तरीके भी होते हैं जिनसे उस व्यक्ति के स्वभाव के अलावा ओर भी बहुत कुछ पता लगाया जा सकता है.

आपको ये बात जानकर जरुर हैरानी होगी कि इंसान के नाम के पहले अक्षर से उसके स्वभाव के बारे में बहुत कुछ पता लगाया जा सकता है. आज हम जिस अक्षर के बारे में बता रहे हैं, वो हैं S. S अक्षर अग्रेज़ी अल्फाबेट के 19वें नंबर पर आता है. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

ऐसा कहा जाता है कि इस अक्षर वाले लोग बहुत ज्यादा मेहनती होते हैं. ऐसे लोग अपने लक्ष्य को पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं. S अक्षर वाले लोग कड़ी मेहनत और लगन के बलबूते ही अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं. इन्हें किसी का भी एहसान लेना पसंद नहीं होता. इन लोगों को जिस भी जगह से ज्ञान मिलता है ये ले लेते हैं. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

S अक्षर वाले लोग दिखने में बेहद खूबसूरत और आकर्षक भी होते हैं. ये हर किसी के बीच अपनी पहचान आसानी से बना लेते हैं. वैसे तो इन लोगों का स्वभाव बहुत शांत होता है, लेकिन जब इन्हें गुस्सा आता है, तो वो किसी को भी नहीं छोड़ते. बात की जाए इनके प्रेम संबंधो के बारे में तो S अक्षर वाले लोग अपने साथी के लिए पूरी तरह से वफादार होते हैं. ये अपने पार्टनर को किसी दूसरे के साथ देखकर गुस्से में कोई भी बड़ा कदम उठाने से पहले बिलकुल भी नहीं सोचते. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ ਪੰਜਾਬੀ ਤੜਕਾ ਨਿਊਜ਼ ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

ਕੁਤੇ ਨਾਲੋਂ ਜਿਆਦਾ best friend ਹੋਰ ਕੋਈ ਨਹੀ ਹੋ ਸਕਦਾ , ਦੇਖੋ 14 ਮਜੇਦਾਰ ਤਸਵੀਰਾਂ। ……

ਕੁਤੇ ਨਾਲੋਂ ਜਿਆਦਾ best friend ਹੋਰ ਕੋਈ ਨਹੀ ਹੋ ਸਕਦਾ , ਦੇਖੋ 14 ਮਜੇਦਾਰ ਤਸਵੀਰਾਂ। ……

कुत्ता इंसान का best friend नहीं, बल्कि उससे भी आगे की चीज़ होता है. कई काम ऐसे होते हैं जो best friend भी आपके लिए नहीं कर सकते. ये तस्वीरें देखिये और समझिये कि कुत्ते जो कर सकते हैं वो कोई और नहीं कर सकता.
1. और किसी की क्या जरूरत ?
mans-best-friend-1
2. इतना helping कोई और फ्रेंड कभी नहीं हो सकता
mans-best-friend-3
3. टॉयलेट में भी मदद करने को तैयार है …. बताइये ?
mans-best-friend-4
4. दुःख भी बंटाता है आपका कुत्ता

mans-best-friend-5

5. इसे कहते हैं यारों का यार …. आपके साथ वह भी गिरफ्तारी देने को तैयार है
mans-best-friend-6
6. इतना ख़याल तो बीवियां भी नहीं करतीं …
mans-best-friend-7
7. मम्मी बाहर गईं हैं … कोई बात नहीं, मैं हूँ ना !
mans-best-friend-8
8. इनकी समझदारी पर कभी शक नहीं करना
mans-best-friend-10
9. और ना ही किसी से कम समझना

mans-best-friend-1110. इनके होते किसी और की जरूरत नहीं

mans-best-friend-13

11. इसे कहते हैं सच्चा साथी … बुरे वक़्त में साथ न छोड़ेगा
mans-best-friend-12

तो मित्रो, जिनके घर में कुत्ता नहीं है, उम्मीद है ये तस्वीरें देखने के बाद उनका मन भी कुत्ता पालने को करने लगा होगा.

क्या ? अभी भी सोचोगे ? अरे ये एक और देखो  –

ਹਾਈਵੇ ਜਾਮ ਕਰਨ ‘ਤੇ ਸੁਖਬੀਰ ਤੇ ਮਜੀਠੀਆ ਸਮੇਤ ਕਈ ਅਕਾਲੀ ਆਗੂਆਂ ‘ਤੇ ਕੇਸ ਦਰਜ

ਫਿਰੋਜਪੁਰ: ਅ੍ਰਮਿੰਤਸਰ ਹਾਈਵੇ ‘ਤੇ ਜਾਮ ਕਰਨ ਦੇ ਲਈ ਸੁਖਵੀਰ ਸਿੰਘ ਬਾਦਲ, ਬਿਕਰਮ ਮਜੀਠੀਆ ਅਤੇ ਸਾਂਸਦ ਰਣਜੀਤ ਸਿੰਘ ਬ੍ਰਹਿਮਪੁਰਾ ਸਮੇਤ ਕਈ ਅਕਾਲੀ ਆਗੂਆਂ ਅਤੇ ਵਰਕਰਾਂ ਦੇ ਖਿਲਾਫ਼ ਕੇਸ ਦਰਦ ਕੀਤੇ ਗਏ ਹਨ।

ਨਿਗਮ ਚੋਣਾਂ ਵਿੱਚ ਧੱਕੇਸ਼ਾਹੀ ਅਤੇ ਝੂਠੇ ਕੇਸ ਦਰਜ ਕਰਨ ਦਾ ਇਲਜ਼ਾਮ ਲਗਾਉਂਦੇ ਹੋਏ ਕਾਂਗਰਸ ਸਰਕਾਰ ਖਿਲਾਫ਼ 24 ਘੰਟੇ ਦਾ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਕੀਤਾ ਸੀ। ਜਿਸ ਤਹਿਤ ਪੰਜਾਬ ਵਿੱਚੋਂ ਗੁਜਰਨ ਵਾਲੇ ਸਾਰੇ ਵੱਡੇ ਹਾਈਵੇ ਜਾਮ ਕੀਤੇ ਗਏ ਸਨ।

ਜ਼ਿਕਰਯੋਗ ਹੈ ਕਿ ਬੀਤੇ ਦਿਨੀਂ ਫ਼ਿਰੋਜ਼ਪੁਰ ਦੇ ਪਿੰਡ ਮੱਲਾਂਵਾਲਾ ਵਿੱਚ ਨਗਰ ਪੰਚਾਇਤ ਚੋਣਾਂ ਦੀ ਨਾਮਜ਼ਦਗੀਆਂ ਦਾਇਰ ਕਰਨ ਸਮੇਂ ਕਾਂਗਰਸ ਤੇ ਅਕਾਲੀ ਵਰਕਰਾਂ ਵਿਚਕਾਰ ਖ਼ੂਨੀ ਝੜਪ ਹੋ ਗਈ ਸੀ। ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਪੁਲਿਸ ‘ਤੇ ਇੱਕਤਰਫਾ ਕਾਰਵਾਈ ਦਾ ਇਲਜ਼ਾਮ ਲਾਉਂਦਿਆਂ ਸੁਖਬੀਰ ਬਾਦਲ ਤੇ ਬਿਕਰਮ ਮਜੀਠੀਆ ਨੇ ਹਰੀਕੇ ਪੱਤਣ ਵਿੱਚ ਸਤਲੁਜ ਦਰਿਆ ਦੇ ਪੁਲ ‘ਤੇ ਧਰਨਾ ਲਾ ਦਿੱਤਾ ਸੀ।

ਬਾਦਲ ਨੇ ਅਕਾਲੀ ਵਰਕਰਾਂ ਵਿਰੁੱਧ ਹੋਏ ਪੁਲਿਸ ਕੇਸ ਵਾਪਸ ਲੈਣ ਦੀ ਸ਼ਰਤ ‘ਤੇ ਧਰਨਾ ਚੁੱਕਣ ਦਾ ਐਲਾਨ ਕੀਤਾ ਸੀ ਅਤੇ ਹੁਣ ਪੁਲਿਸ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਦੇ ਤਬਾਦਲੇ, ਧਾਰਾ 307 ਦੇ ਖ਼ਤਮ ਕਰਨ ਤੇ ਕਾਂਗਰਸੀਆਂ ਵਿਰੁੱਧ ਵੀ ਕੇਸ ਦਰਜ ਹੋਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਉਨ੍ਹਾਂ ਧਰਨੇ ਖ਼ਤਮ ਕਰ ਦਿੱਤੇ ਹਨ। ਇਨ੍ਹਾਂ ਧਰਨਿਆਂ ਤੋਂ ਆਮ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਕਾਫੀ ਪ੍ਰੇਸ਼ਾਨੀ ਹੋਈ ਸੀ, ਜਿਸ ‘ਤੇ ਸੁਖਬੀਰ ਬਾਦਲ ਨੇ ਮੁਆਫੀ ਵੀ ਮੰਗੀ ਹੈ।

ਧਰਮਿੰਦਰ ਦੀਆ ਆਹ 50 ਫੋਟੋਆਂ ਕਿਸੇ ਨੇ ਨਹੀਂ ਦੇਖੀਆਂ ਹੋਣੀਆਂ….

ਧਰਮਿੰਦਰ ਦੀਆ 50 ਫੋਟੋਆਂ ਨਹੀਂ ਦੇਖੀਆਂ ਹੋਣੀਆਂ….

धर्मेंद्र बस नाम ही काफ़ी है. बॉलीवुड में इन्हें ‘गरम धरम’ के नाम से भी जाता है. बॉलीवुड में 50 से भी ज़्यादा सालों से जुड़े रहे धर्मेंद्र का अपना ही जलवा है. चाहे उनका डायलॉग बोलने का अंदाज़ हो या उनके गज़ब के डांस स्टेप्स.
सीता और गीता, चुपके चुपके, शोले जैसी अनगिनत बेहतरीन फ़िल्मों में अपने अभिनय का जल्वा बिखेरने वाले धर्मेंद्र भी अपने ज़माने के Heartthrob रहे हैं.
वक़्त के बक्से से हम ढूंढ लाए हैं धर्मेंद्र जी की कुछ देखी-अनदेखी तस्वीरें

ਇਸ ਜਗਾ ਤੇ ਲੜਕੀ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਪਿਤਾ ਨਾਲ ਹੀ ਕਰਨਾ ਪੈਂਦਾ ਹੈ ਵਿਆਹ

ਦੁਨੀਆਂ ਭਰ ਵਿੱਚ ਵਿਆਹ ਨੂੰ ਲੈ ਕੇ ਅਜੀਬੋ ਗਰੀਬ ਰਿਵਾਜ ਹਨ, ਹਰ ਇੱਕ ਧਰਮ ਜਾਤੀ ਦੇ ਅਲੱਗ ਅਲੱਗ ਰਿਵਾਜ ਹਨ,

ਇਸੇ ਹੀ ਤਰਾਂ ਦੇ ਇੱਕ ਰਿਵਾਜ ਬਾਰੇ ਅਸੀਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਅੱਜ ਦੱਸਣ ਜਾ ਰਹੇ ਹਾਂ. ਜਿਸ ਅਨੁਸਾਰ ਲੜਕੀ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਹੀ ਪਿਤਾ ਨਾਲ ਸ਼ਾਦੀ ਕਰਨੀ ਪੈਂਦੀ ਹੈ, ਇਸ ਪਰੰਪਰਾ ਅਨੁਸਾਰ ਜੇਕਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਔਰਤ ਦਾ ਪਤੀ ਛੋਟੀ ਉਮਰ ਵਿੱਚ ਹੀ ਮਰ ਜਾਦਾਂ ਹੈ ਤਾਂ ਉਸ ਅੋਰਤ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਹੀ ਖਾਨਦਾਨ ਵਿੱਚੋਂ ਕਿਸੇ ਕੁਵਾਰੇ ਆਦਮੀ ਨਾਲ ਸ਼ਾਦੀ ਕਰਨੀ ਪੈਂਦੀ ਹੈ,

ਜੇਕਰ ਉਸ ਔਰਤ ਦੀ ਕੋਈ ਪਹਿਲਾਂ ਲੜਕੀ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਉਸ ਨੂੰ ਵੀ ਆਪਣੀ ਮਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਸ਼ਾਦੀ ਵਿੱਚ ਬਿਠਾਇਆ ਜਾਦਾਂ ਹੈ ਅਤੇ ਦੋਵਾਂ ਦੀ ਸ਼ਾਦੀ ਇੱਕ ਹੀ ਆਦਮੀ ਨਾਲ ਕਰ ਦਿੱਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਬੇਟੀ ਆਪਣੀ ਹੀ ਮਾਂ ਦੀ ਸੋਤਨ ਬਣ ਜਾਂਦੀ ਹੈ. ਇਹ ਰਿਵਾਜ ਬੰਗਲਾਦੇਸ਼ ਦੇ ਮਾਧੋਪੁਰ ਵਿੱਚ ਹੈ. ਪਰ ਹੁਣ ਇਹ ਪਰੰਪਰਾ ਬਹੁਤ ਘਟ ਗਈ ਹੈ.

ਕੱਪੜੇ ਬਦਲ ਰਹੀ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਫਿਰ … must watch

ਜਦ ਕੋਈ ਔਰਤ ਰਸਤੇ ਤੋਂ ਜਾ ਰਹੀ ਹੋਵੇ ਚਾਹੇ ਛੋਟੇ ਕੱਪੜੇ ਪਹਿਨੇ ਹੋਣ ।
ਜਾਂ ਕਿਤੇ ਨਹਾਉਂਦੀ ਹੋਵੇ
ਜਾਂ ਕੱਪੜੇ ਬਦਲ ਰਹੀ ਹੋਵੇ

ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਨਾਲ਼ ਇਕਾਂਤ ਵਿੱਚ ਗੱਲ ਕਰ ਰਹੀ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਕਿਓਂ ਮਰਦ ਨੂੰ ਉਲਝਣ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ? ਕਿਓਂ ਉਨ੍ਹਾਂ ਅੰਦਰ ਬੇਚੈਨੀ ਹੋਣ ਲੱਗਦੀ ਹੈ ? ਉਹ ਤਾਂ ਅਪਦੀ ਸਹਿਜਤਾ ਨਾਲ਼ ਚੱਲ ਰਹੀ ਹੈ ਜਾਂ ਨਹਾ ਰਹੀ ਹੈ। ਤਾਂ ਪੁਰਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਕਿਓਂ ਪ੍ਰੇਸ਼ਾਨੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ।

ਇਹ ਕਸ਼ਟ ਪੁਰਸ਼ਾਂ ਦਾ ਹੈ ਕਿਓਂਕਿ ਉਨ੍ਹਾਂ ‘ਅੰਦਰ’ ਬੇਚੈਨੀ ਹੋ ਰਹੀ ਹੈ।
# ਮੁਸਲਮਾਨਾਂ ਨੇ ਆਪਣੇ ਅੰਦਰ ਦੀ ਬੇਚੈਨੀ ਦਾ ਇਲਾਜ ਨਾ ਕਰਕੇ ਔਰਤ ਨੂੰ ਪਰਦੇ ਵਿੱਚ ਨਕਾਬ ਵਿੱਚ ਪਾ ਦਿੱਤਾ ਤਾਂ ਕੀ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਬੇਚੈਨੀ ਘੱਟ ਹੋ ਗਈ ?
ਨਹੀਂ ਉਹ ਹੋਰ ਕਾਮੁਕ ਹੋ ਗਏ।

“ਇਲਾਜ ਕਿਸਦਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਸੀ ਅਤੇ ਕਿਸਦਾ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ”
ਇਸ ਅਵੱਸਥਾ ਵਿੱਚ ਪਸ਼ੂ ਸਾਡੇ ਨਾਲ਼ੋਂ ਚੰਗੇ ਹਨ।
“ਜੋ ਸੱਚਾ ਪੁਰਸ਼ ਹੋਏਗਾ ਉਹ ਆਪਣੇ ਅੰਦਰ ਦਾ ਇਲਾਜ ਕਰੇਗਾ ਨਾ ਕਿਸੇ ਦੂਸਰੇ ਨੂੰ ਛੁਪਾਏਗਾ ਜਾਂ ਪਰਦੇ ਵਿੱਚ ਰੱਖਗੇ”

ਮਨ ਦਾ ਇਲਾਜ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਕਿ ਇਹ ਬੇਚੈਨੀ ਸਾਡੇ ਵਿੱਚ ਕਿੱਥੋਂ ਜਨਮ ਲੈ ਰਹੀ ਹੈ।……. ਬਾਜ ਸਿੰਘ

ਇਸ ਪਿੰਡ ਵਿੱਚ ਵਿਆਹ ਦੇ ਬਾਅਦ 5 ਦਿਨ ਤੱਕ ਕੱਪੜੇ ਪਾਏ ਬਿਨਾ ਰਹਿੰਦੀਆਂ ਹਨ ਦੁਲਹਨ ਕਿਉਕਿ ….

ਇਸ ਪਿੰਡ ਵਿੱਚ ਵਿਆਹ ਦੇ ਬਾਅਦ 5 ਦਿਨ ਤੱਕ ਕੱਪੜੇ ਪਾਏ ਬਿਨਾ ਰਹਿੰਦੀਆਂ ਹਨ ਦੁਲਹਨ ਕਿਉਕਿ,,,

दुनियाभर में शादी को लेकर अलग-अलग तरह की परंपराएं निभाई जाती हैं. जब भी आप किसी शादी में जाते होंगे, तो आपको वहां अलग-अलग तरह की परंपराएं और रिवाज देखने को मिलते हैं, जिनको देखने के बाद आपको उन परंपराओं पर विश्वास नहीं होता होगा, लेकिन आज आपको एक ऐसी परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको सुनकर आपको होश भी उड़ सकते हैं.


दरअसल देव भूमि कहे जाने वाले हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में पीणी गांव में शादी के बाद लड़की को 5 दिन तक निर्वस्त्र रखा जाता है. इसके अलावा शादी के बाद दुल्हन को अजीब नियमों का भी पालन करना पड़ता है जिनके तहत नई दुल्हन को 5 दिन तक बस ऊन से बने पट्टू को पहनना होता है. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ Desi News  ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

इन 5 दिनों में पति-पत्नी ना एक दूसरे से बात कर सकते हैं और ना एक दूसरे को छू सकते हैं, यहां तक कि वो एक-दूसरे से हंसकर बात भी नहीं कर सकते. इस दौरान गांव का कोई भी आदमी शराब नहीं पी सकता. सालों से निभाई जा रही इस परंपरा को अभी भी गांव की नई पीढ़ी द्वारा निभाया जा रहा है. सावन के महीने के इन 5 दिनों में पति-पत्नी को अलग रहना होता है, क्योंकि इसको तबाही से जोड़कर देखा जाता है. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ Desi News ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .

इस परंपरा के पीछे एक कहानी बहुत प्रचलित है कहा जाता है कि लाहुआ घोंड देवता जब पीणी पहुंचे थे, तब वहां राक्षसों का बहुत ज्यादा आतंक था, भादों सक्रांति को यहां काला महीना कहा जाता है. इसी दिन देवी-देवताओं ने पीणी में कदम रखा था जिसके बाद राक्षसों का खात्मा हो गया है.उसी समय से इस प्रथा की शुरुआत हुई थी जो आज तक निभाई जा रही हैं. ਤੁਸੀਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹੋਂ Desi News ਦਾ ਆਰਟੀਕਲ , ਜੇ ਤੁਹਾਨੂੰ ਆਰਟੀਕਲ ਚੰਗਾ ਲਗੇ ਤਾ share ਜਰੂਰ ਕਰਨਾ . ਧੰਨਵਾਦ .